गाय पर निबन्ध (सन २०४०)

समय तेजी से बदल रहा है । भारतीय संस्कृति व उससे जुडे़ प्रतीक पार्श्व में चले जा रहे हैं । गोवंश धीरे-धीरे समाप्त होता जा रहा है… जगह-जगह गौवंश के वध हेतु (Slaughter Houses) बनते जा रहे हैं… ऐसे में आज से तीस-चालीस साल बाद सन २०४०-२०५० में कक्षा दूसरी-तीसरी के बच्चे को “गाय” पर दस वाक्य लिखने को कहा जाये तो वह क्या लिखेगा…
१. गाय एक जानवर होता है, जो गाँव में कहीं-कहीं पाया जाता है ।
२. गाय शहर में नहीं रह सकती, क्योंकि हमारी कालोनी में घास नहीं है ।
३. गाय दूध भी देती है, लेकिन हम दूध “डेरी” से ही लेते हैं ।
४. अमेरिका में लड़के को “गाय” कहते हैं ।
५. मेरी “ग्रैण्डमा” के पास गाँव में गाय थी, हम यहाँ नहीं रख सकते, “लायसेंस” नहीं है ।
६. गाय के गोबर को हम “शिट” कहते हैं ।
७. गाय के दो सींग होते हैं, जो मारने के काम आते हैं ।
८. गाय का चेहरा मेरे दोस्त की “मॉम” से मिलता है ।
९. पुराने जमाने में गाय को माता कहते थे, पता नहीं क्यों ?
१०. “डैड” कहते हैं कि गाय और जंगल बहुत काम के हैं… लेकिन मैने दोनों नहीं देखे ।

17 Comments

  1. Shrish said,

    February 27, 2007 at 10:51 am

    बहुत खूब एकदम सही कल्पना की आपने। लेकिन इस लाइन में गड़बड़ कर गए।

    “४. अमेरिका में लड़के को “गाय” कहते हैं ।”

    सन २०४० में भारत में भी लड़के को ‘गाय’ ही कहा जाने लगेगा। 🙂

  2. Shrish said,

    February 27, 2007 at 10:51 am

    बहुत खूब एकदम सही कल्पना की आपने। लेकिन इस लाइन में गड़बड़ कर गए।

    “४. अमेरिका में लड़के को “गाय” कहते हैं ।”

    सन २०४० में भारत में भी लड़के को ‘गाय’ ही कहा जाने लगेगा। 🙂

  3. Shrish said,

    February 27, 2007 at 10:51 am

    बहुत खूब एकदम सही कल्पना की आपने। लेकिन इस लाइन में गड़बड़ कर गए।

    “४. अमेरिका में लड़के को “गाय” कहते हैं ।”

    सन २०४० में भारत में भी लड़के को ‘गाय’ ही कहा जाने लगेगा। 🙂

  4. Shrish said,

    February 27, 2007 at 10:51 am

    बहुत खूब एकदम सही कल्पना की आपने। लेकिन इस लाइन में गड़बड़ कर गए।”४. अमेरिका में लड़के को “गाय” कहते हैं ।”सन २०४० में भारत में भी लड़के को ‘गाय’ ही कहा जाने लगेगा। 🙂

  5. उडन तश्तरी said,

    February 27, 2007 at 11:22 am

    “डैड” कहते हैं कि गाय और जंगल बहुत काम के हैं… लेकिन मैने दोनों नहीं देखे ।

    –बहुत गहन सोच और संदेश-अभी भी संभल जायें तो कुछ नहीं बिगड़ा है. इस संदेश हेतु आपको साधुवाद.

  6. उडन तश्तरी said,

    February 27, 2007 at 11:22 am

    “डैड” कहते हैं कि गाय और जंगल बहुत काम के हैं… लेकिन मैने दोनों नहीं देखे ।

    –बहुत गहन सोच और संदेश-अभी भी संभल जायें तो कुछ नहीं बिगड़ा है. इस संदेश हेतु आपको साधुवाद.

  7. February 27, 2007 at 11:22 am

    “डैड” कहते हैं कि गाय और जंगल बहुत काम के हैं… लेकिन मैने दोनों नहीं देखे ।–बहुत गहन सोच और संदेश-अभी भी संभल जायें तो कुछ नहीं बिगड़ा है. इस संदेश हेतु आपको साधुवाद.

  8. नितिन व्यास said,

    February 27, 2007 at 11:32 am

    बढिया!!

  9. नितिन व्यास said,

    February 27, 2007 at 11:32 am

    बढिया!!

  10. February 27, 2007 at 11:32 am

    बढिया!!

  11. Abhishek said,

    February 27, 2007 at 12:47 pm

    बहुत अच्छा और मज़ाकिया लिखा है । लेकिन इसके पीछे का सन्देश भी बहुत गम्भीर है । भगवान करे ऐसा ना हो और भविष्य के बच्चे भी गाय पर निबन्ध लगभग वैसा ही लिखें जैसा हम लिख लिख कर बड़े हुए हैं ।

    🙂

  12. Abhishek said,

    February 27, 2007 at 12:47 pm

    बहुत अच्छा और मज़ाकिया लिखा है । लेकिन इसके पीछे का सन्देश भी बहुत गम्भीर है । भगवान करे ऐसा ना हो और भविष्य के बच्चे भी गाय पर निबन्ध लगभग वैसा ही लिखें जैसा हम लिख लिख कर बड़े हुए हैं ।

    🙂

  13. Abhishek said,

    February 27, 2007 at 12:47 pm

    बहुत अच्छा और मज़ाकिया लिखा है । लेकिन इसके पीछे का सन्देश भी बहुत गम्भीर है । भगवान करे ऐसा ना हो और भविष्य के बच्चे भी गाय पर निबन्ध लगभग वैसा ही लिखें जैसा हम लिख लिख कर बड़े हुए हैं ।:-)

  14. girish pankaj said,

    May 18, 2010 at 6:31 pm

    achchha hai bhai, gaay ki durdashaa par kararaa vyangya hai yah. maine geet likhe, go chaleesaa likhi, go aarati bhi likhi. fir bhi man nahi manaa toh ab ek upanyaas hi likh maraa hai-”devnaar ke danav” gaay ki halat toh bad se badatar hoti ja rahi hai

  15. Mayuri Pitale said,

    July 23, 2010 at 3:25 pm

    great essay……ha ha ha………

  16. hitesh kumar said,

    August 13, 2010 at 11:46 am

    so nice it is really mindblowing think and so funny. in third line
    may be in 2040 dairy may found in city also. it will also find in villages.

  17. pusandu said,

    August 26, 2010 at 3:16 pm

    the esaay was very good &funny


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: