मर्दों के लिये रोमांस गाईड

रोमांस की दुनिया में मर्दों के लिये एक ही मुख्य नियम होता है – औरत को खुश रखें ।
लेकिन दरअसल यह एक खेल है जिसमें मर्दों को कुछ अंक मिलते हैं उनके कामों के अनुसार औरत जो पसन्द करती है वह आपने किया तो आपको कुछ पॉजिटिव अंक मिलेंगे, जो वह नापसन्द करती है वह करने पर आपको निगेटिव अंक मिलेंगे ही.. लेकिन यदि आपने वह किया जो वह पहले से अपेक्षा करती है, तो कोई अंक नहीं मिलेगा… सॉरी.. यही नियम है…
अब इन अंकों को प्राप्त करने हेतु मर्दों के लिये एक गाईडलाईन पेश है, ताकि वे अपना काम बखूबी अंजाम दे सकें –

साधारण कार्य –
(१) आप बिस्तर बिछाते हैं (+10)
(२) बिस्तर बिछाते हैं, लेकिन तकिये के गिलाफ़ भूल जाते हैं (-25)
(३) बिस्तर की चादर पर सलवटें हैं (-30)
(४) उसकी पसन्द की चीज लेने जाते हैं (+5), बारिश में जाते हैं (+8), लेकिन बीयर लेकर वापस आते हैं (-15)
(५) रात को एक शंकास्पद आवाज आने पर बाहर देखने जाते हैं (0)
(६) शंकास्पद आवाज आने पर लोहे की रॉड से हमला करते हैं (+5)
(७) पता चलता है कि मरने वाली उसकी पालतू बिल्ली है (-20)

सामान्य शिष्टाचार –
(१) पार्टी में पूरे समय उसके पास ही खडे़ रहते हैं (0)
(२) पार्टी प्रारम्भ होने के कुछ देर बाद ही मित्र से बातें करने लगते हैं (-5), मित्र का नाम रीटा है (-10), रीटा एक डांसर है (-20), और वह बहुत ही खूबसूरत है (-80)

उसका जन्मदिन –
(१) आप जन्मदिन भूल जाते हैं (-50,000)
(२) उसे जन्मदिन पर डिनर पर ले जाते हैं (0)
(३) उसकी पसन्द की डिश मंगवाते हैं (+5)
(४) अपनी पसन्द की डिश मंगवाते हैं (-10)
(५) होटल में टीवी पर क्रिकेट चल रहा है (-10) और आप उसे देखते भी हैं (-30)

उसके सवालों पर –
(१) क्या मैं मोटी लग रही हूँ ?
आपकी चुप्पी पर (-10), हिचकिचाने पर (-20), कहाँ से ? पूछने पर (-50), कोई और उत्तर देने पर (-40)
(२) मैं क्या पहनूँ ?
कुछ भी पहनो (-50), वो ऑरेंज कलर की बेकार साडी भर मत पहनो (-20), मैं क्या बताऊँ ? (-100)

उसके द्वारा किसी समस्या को बताने पर –
बडी़ गम्भीरता से दस मिनट तक सुनने पर (0), गम्भीरता से एक घंटा सुनने पर (+100), इस एक घंटे में टीवी की ओर नजर तक ना घुमाना (+250), उसकी समस्या सुनते-सुनते झपकी लग जाना (-10000)

तो भाईयों… इस संक्षिप्त गाईड से आपको अन्दाजा तो हो ही गया होगा कि रोमांस में सफ़ल होने के लिये आप कैसे अपने अंक बटोर सकते हैं, तो लग जाईये आज ही से…। कागज काले करने के नशे और टीवी की गन्दी लत के कारण मैं जन्मदिन भूलकर अपने लिये (-50000 और -10000) अंक बटोर चुका हूँ, जिसकी भरपाई में काफ़ी वक्त लगेगा, लेकिन मेरे अन्य भाई-बन्धु सावधान हो जायें, इसलिये यह गाईड पेश कर दी है…
यह अपने मर्द मित्रों को पढवाईये हँसने के लिये और महिलाओं को पढवाईये जोर से हँसने के लिये…

23 Comments

  1. संजय बेंगाणी said,

    June 16, 2007 at 8:41 am

    आज तक कोई मर्द इस परिक्षा में पास हुआ है क्या?

  2. संजय बेंगाणी said,

    June 16, 2007 at 8:41 am

    आज तक कोई मर्द इस परिक्षा में पास हुआ है क्या?

  3. June 16, 2007 at 8:41 am

    आज तक कोई मर्द इस परिक्षा में पास हुआ है क्या?

  4. Shrish said,

    June 16, 2007 at 10:45 am

    अभी तो हमें इसकी जरुरत नहीं वक्त आने पर आपके टिप्स जरुर इस्तेमाल करेंगे। 🙂

  5. Shrish said,

    June 16, 2007 at 10:45 am

    अभी तो हमें इसकी जरुरत नहीं वक्त आने पर आपके टिप्स जरुर इस्तेमाल करेंगे। 🙂

  6. Shrish said,

    June 16, 2007 at 10:45 am

    अभी तो हमें इसकी जरुरत नहीं वक्त आने पर आपके टिप्स जरुर इस्तेमाल करेंगे। 🙂

  7. Shrish said,

    June 16, 2007 at 10:45 am

    अभी तो हमें इसकी जरुरत नहीं वक्त आने पर आपके टिप्स जरुर इस्तेमाल करेंगे। 🙂

  8. sajeev sarathie said,

    June 16, 2007 at 12:14 pm

    भाई साहेब सब कुछ आजमा के देख लो …. अगर कामयाब हो जाओ तब बात करेंगे

  9. sajeev sarathie said,

    June 16, 2007 at 12:14 pm

    भाई साहेब सब कुछ आजमा के देख लो …. अगर कामयाब हो जाओ तब बात करेंगे

  10. sajeev sarathie said,

    June 16, 2007 at 12:14 pm

    भाई साहेब सब कुछ आजमा के देख लो …. अगर कामयाब हो जाओ तब बात करेंगे

  11. June 16, 2007 at 12:14 pm

    भाई साहेब सब कुछ आजमा के देख लो …. अगर कामयाब हो जाओ तब बात करेंगे

  12. Sagar Chand Nahar said,

    June 16, 2007 at 1:39 pm

    बहुत बुरी बात है आपने तो हमें फेल घोषित कर दिया।

  13. Sagar Chand Nahar said,

    June 16, 2007 at 1:39 pm

    बहुत बुरी बात है आपने तो हमें फेल घोषित कर दिया।

  14. June 16, 2007 at 1:39 pm

    बहुत बुरी बात है आपने तो हमें फेल घोषित कर दिया।

  15. पंकज बैंगाणी said,

    June 16, 2007 at 3:48 pm

    भाइ हम तो न. १ पर है नीचे से समझ गये जन्मदिन से लेकर शादी की तारीख तक
    समझ गये अब बाकी बाद मे आगई है,खामखा जूते पडवाओगे

  16. पंकज बैंगाणी said,

    June 16, 2007 at 3:48 pm

    भाइ हम तो न. १ पर है नीचे से समझ गये जन्मदिन से लेकर शादी की तारीख तक
    समझ गये अब बाकी बाद मे आगई है,खामखा जूते पडवाओगे

  17. June 16, 2007 at 3:48 pm

    भाइ हम तो न. १ पर है नीचे से समझ गये जन्मदिन से लेकर शादी की तारीख तकसमझ गये अब बाकी बाद मे आगई है,खामखा जूते पडवाओगे

  18. अरुण said,

    June 16, 2007 at 3:49 pm

    भाइ ये तो गये और किसे किसे पिटवाओगे सुरेश भाई

  19. अरुण said,

    June 16, 2007 at 3:49 pm

    भाइ ये तो गये और किसे किसे पिटवाओगे सुरेश भाई

  20. अरुण said,

    June 16, 2007 at 3:49 pm

    भाइ ये तो गये और किसे किसे पिटवाओगे सुरेश भाई

  21. हरिराम said,

    June 20, 2007 at 7:31 am

    कुछ बिन्दु तो शायद आप भूल ही गए सुरेश भैय्या..
    रोज बारम्बार उसकी सुन्दरता की प्रशंसा करना (+100), रोज उसके भाई की प्रशंसा करना (+120), बारम्बार अपनी सास जी के गुणगान करना (+150), रोजाना अपने ससुर जी की महिमा बखान करना (+180), उसके सामने अपनी छोटी साली के सौन्दर्य की प्रशंसा करना (-1,00,000), अपनी छोटी साली की गलतियाँ निकालना (-20,000)…, उसकी किसी फार्माईश को पूरा करने के पहले उसके सामने अपने माता-पिता की सेवा करना (-3,00,000)…..

  22. हरिराम said,

    June 20, 2007 at 7:31 am

    कुछ बिन्दु तो शायद आप भूल ही गए सुरेश भैय्या..
    रोज बारम्बार उसकी सुन्दरता की प्रशंसा करना (+100), रोज उसके भाई की प्रशंसा करना (+120), बारम्बार अपनी सास जी के गुणगान करना (+150), रोजाना अपने ससुर जी की महिमा बखान करना (+180), उसके सामने अपनी छोटी साली के सौन्दर्य की प्रशंसा करना (-1,00,000), अपनी छोटी साली की गलतियाँ निकालना (-20,000)…, उसकी किसी फार्माईश को पूरा करने के पहले उसके सामने अपने माता-पिता की सेवा करना (-3,00,000)…..

  23. June 20, 2007 at 7:31 am

    कुछ बिन्दु तो शायद आप भूल ही गए सुरेश भैय्या..रोज बारम्बार उसकी सुन्दरता की प्रशंसा करना (+100), रोज उसके भाई की प्रशंसा करना (+120), बारम्बार अपनी सास जी के गुणगान करना (+150), रोजाना अपने ससुर जी की महिमा बखान करना (+180), उसके सामने अपनी छोटी साली के सौन्दर्य की प्रशंसा करना (-1,00,000), अपनी छोटी साली की गलतियाँ निकालना (-20,000)…, उसकी किसी फार्माईश को पूरा करने के पहले उसके सामने अपने माता-पिता की सेवा करना (-3,00,000)…..


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: