प.पू.पं. श्रीराम शर्मा आचार्य उवाच

“इन दिनों इतिहास का अभिनव अध्याय लिखा जा रहा है । इसमें हम में से हर किसी का ऎसा स्थान और योगदान होना चाहिए , जिसकी चर्चा पीढि़यों तक होती रहे । जिसकी स्मृति हर किसी को प्रेरणा दे सके , कि सोचना किस तरह चाहिए और चलना किस दिशा में , किस मार्ग पर चाहिए ? दीपक छोटा होते हुए भी अपने प्रभावक्षेत्र में प्रकाश प्रस्तुत करने और यथार्थता से अवगत कराने से घनघोर अंधेरे को भी परास्त करने में सफ़ल होता है ; भले ही इस प्रयास में उसे अपने तेल-बत्ती जैसे सीमित साधनों को भी दाँव पर लगाना पडे़ । क्या हमारा मूल्य दीपक से भी कम है ?”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: