>इस दिल से तेरी याद भुलाई नहीं जाती… रफी साहब

>

रफी साहब का गाया हुआ यह गैर फिल्मी गीत आज तक नहीं सुना था। आज सुबह मेल खोलते ही सबसे पहले रफीमूर्ति साहब की मेल मिली और उसमें था रफी साहब का गाया हुआ अनमोल गैर फिल्मी गीत.. इस दिल से तेरी याद भुलाई नहीं जाती- ये प्यार की दौलत है लुटाई नहीं जाती।

अन्तर्जाल पर इस गीत के बारे में बहुत खोजने पर भी कोई जानकारी नहीं मिली, कि किस संगीतकार ने इस गीत की संगीत रचना की है और कौन गीतकार हैं। आप के पास अगर कोई जानकारी हो तो जरूर बतायें।

तब तक आप सुनिये यह मधुर गीत..

और धन्यवाद मूर्ति साहब, एक और अनमोल नग्मा भेजने के लिये।

http://lifelogger.com/common/flash/flvplayer/flvplayer_basic.swf?file=http://mahaphil.lifelogger.com/media/audio0/729517_xyxafgiauz_conv.flv&autoStart=false

is-dil

8 Comments

  1. May 19, 2008 at 3:48 pm

    >बढ़िया गीत सुनाया. इंक ब्लागिंग भी लगे हाथ हो गई. बधाई.

  2. मीत said,

    May 19, 2008 at 4:54 pm

    >वाह सागर भाई. मज़ा आ गया. बहुत बहुत शुक्रिया इतना बढ़िया गीत सुनवाने का.

  3. May 19, 2008 at 10:00 pm

    >शुक्रिया सागर भाई, आनंद लिया इस कालजयी रचना का।

  4. yunus said,

    May 20, 2008 at 1:35 am

    >आपसे इसी तरह की रचनाएं लाने की उम्‍मीद रहती है । शुक्रिया ।

  5. May 20, 2008 at 2:40 pm

    >बहुत बढ़िया गीत, हमने भी कभी नहीं सुना था की रफी साब ने गैर फिल्मी गीत गाए हो.

  6. A S MURTY said,

    May 22, 2008 at 5:34 pm

    >सागरजी नमस्कार. रफी साहब का यह अमर गीत मुझे पाकिस्तान से भेंट के रूप में मिला है. सिन्द पाकिस्तान के जेवेद अहमद लाखो ने मुझे जब भेजा था, उस वक़्त उन्होने फिल्म का नाम नहीं बताया था. सिर्फ गाना ही भेजा था. चूँकि आपने फिल्म का नाम जानने की इच्छा व्यतीत की और मेरे फिर पूछने पर, जेवेद ने बताया की फिल्म का नाम है – कनीज़ जो की १९४९ में बनी थी. इस गाने को आपके के सुनहरे पन्नों में सुशोभित करने के लिए परम परम धन्यवाद.

  7. A S MURTY said,

    May 22, 2008 at 5:46 pm

    >अभिषेक ओझा जी नमस्कार. रफी साहब ने गैर फिल्मी गीतों में भी अपनी छाप छोड़ी है. उन्होने पंजाबी, हिंदी, उर्दू, व अन्य कई भाषाओं में गैर फिल्मी गाने गए हैं जो की सैकडों हैं. फिर कभी मैं ऐसे ही कुछ गीत सागर जी को ज़रूर भेजूँगा ताकि आप सभीको उन गीतों को सुनाने का अवसर मिलेगा.

  8. Sujayita said,

    July 11, 2008 at 6:13 am

    >As far as I know, this is the information for this song. :)1949-NON FILM-Is Dil Se Teri Yaad-Mohd. Rafi-Lyrics: Rajinder Krishen-Music: Hansraj Behl


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: