लाई किस्मत आँसुओं का जाम क्यूं..?

लुट गया दिन रात का आराम क्यूं- ए मुहब्बत  तेरा ये अंजाम क्यूं

महफिल में आज सुनिये 1949 में बनी  फिल्म लेख का एक  मधुर और बहुत कम  सुना जाने वाला गीत, लुट गया..। इस फिल्म के गायक है स्व. मुकेश और फिल्म के गीतकार- संगीतकार क्रमश: कमर जलालाबादी और कृष्ण दयाल हैं। फिल्म के मुख्य कलाकार हैं मोतीलाल, सुरैया, सितारादेवी और कुक्कू।

 

 

लुट गया दिन रात का आराम क्यूं
ऐ मुहब्बत तेरा ये अंजाम क्यूं

हमने मांगी थी मुहब्बत की शराब
लाई किस्मत आंसुओं का जाम क्यूं..लुट गया

दिल समझता है के तू है बेवफ़ा
आ रहा है लब पे तेरा नाम क्यूं..

लुट गया दिन रात का आराम क्यूं
ऐ मुहब्बत तेरा ये अंजाम क्यूं

 

6 Comments

  1. मीत said,

    May 23, 2008 at 6:00 am

    क्या बात है सागर भाई. बहुत दिनों बाद सुना ये गीत. ये गीत मेरे पास LP रेकॉर्ड पे है. और turn table ख़राब पड़ा है ज़माने से. क्या करूं ? बहरहाल, शुक्रिया …… आप की दुआ से सारे गीत सुनने को मिल ही जाते हैं.

  2. शायदा said,

    May 23, 2008 at 7:34 am

    बहुत पुराना और सुंदर गीत सुनवाया आपने। अच्‍छा लगा।

  3. mehek said,

    May 23, 2008 at 5:20 pm

    bahut sundar

  4. Neeraj Rohilla said,

    May 23, 2008 at 5:24 pm

    सागरजी,

    इस गीत ने तो सबका मन लूट लिया होगा । आगे भी आप ऐसे ही खजाने लाते रहें ।

  5. Harshad Jangla said,

    May 23, 2008 at 5:44 pm

    Sagarbhai
    A rare song, nice one.

    Thanx.
    -Harshad Jangla
    Atlanta, USA

  6. ममता सिंह said,

    August 26, 2008 at 1:07 pm

    वाह क्‍या बात है । 1949 में राजकपूर की बरसात भी आई थी । और मुकेश वहां कुछ अलग अंदाज़ में सुनाई पड़ते हैं । सागर भाई इस गाने को सुनना अदभुत अनुभव है । कृष्‍णदयाल के बारे में मुझे भी नहीं पता । खोज करनी होगी ।

    ममता सिंह
    यूनुस खान


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: