बादल देखी डरी हो स्याम…. ज्यूथिका रॉय

कल शाम ४ बजे से बारिश जम कर हो रही है, एक मिनीट के लिये भी सूरज के दर्शन नहीं हुए आज तो। दिन में भी काले बादलों की वजह से  इतना अंधेरा हो गया है कि  घर में तो कुछ भी नहीं दिखता, दिन में भी लाईट चालू करनी पड़ रही है। 

ऐसे ही मौसम में  काले बादल छाये हुए हैं  और डरी हुई मीरां बाई अपने स्याम को   याद कर रही है, देखिये ज्यूथिका रॉय   कितने विकल स्वर में गा रही है, बादल देखी डरी हो स्याम, बादल देखी डरी!! मानो खुद मीरा बाई ही  गाकर अपने स्याम को याद कर रही है। ज्यू्थिका रॉय को ऐसे ही थोड़े ही ना  आधुनिक मीरा बाई कहा जाता था!

mirabai4

आप ध्यान से सुनेंगे तो आपको यूं अहसास होने लगेगा मानों बाहर वर्षा हो रही है और  मीरा बाई  गा रही है; और अगर काले बादल छाये हुए हैं, और तेज वर्षा हो रही है, तो इस गीत को सुनने का इससे बढ़िया कोई दूसरा अवसर हो ही  नहीं सकता।

बादल देख डरी हो, स्याम, मैं बादल देख डरी ।

श्याम मैं बादल देख डरी

काली-पीली घटा उमंडी बरसे एक धरी ।

जित जाऊं सब पाणी ही पाणी, हुई सब भोम हरी ॥

बादल देखी डरी..

जाके पिया परदेस बसत है भीजे बाहर खरी ।

मीरा के प्रभु गिरधर नागर  कीजो प्रीत खरी ।

श्याम मैं बादल देख डरी ।

रचना- मीरा बाई

संगीत – कमल दासगुप्‍ता

बादल देखी डरी

8 Comments

  1. yunus said,

    August 9, 2008 at 1:34 pm

    वाह वाह सागर भाई ।
    बहुत दिनों बाद ये गाना सुना । और जूथिका राय पर वो पुस्‍तक याद आ गयी जिसे किसी ने भेंट किया है हमें । पर गुजराती मे है इसलिए थोड़ा कतरा रहे थे इसे पढ़ने के लिए । पर अब पढ़ते हैं आज से अभी से ।

  2. Udan Tashtari said,

    August 9, 2008 at 5:49 pm

    बेजोड़ प्रस्तुति. आभार.आनन्द आ गया.

  3. Lavanyam - Antarman said,

    August 9, 2008 at 6:15 pm

    नाहर भाइ;स्सा
    बेहतरीनौर दुर्लभ गीत सुनवाया है आपने –
    बहोत पसँद आया
    – लावण्या

  4. Harshad Jangla said,

    August 10, 2008 at 1:27 am

    Sagarbhai

    A rare song gave a pleasure to ears.
    Thanx.

    -Harshad Jangla
    Atlanta, USA

  5. anitakumar said,

    August 10, 2008 at 4:13 pm

    वाह ! बहु सरस सागर भाई

  6. Nitin Bagla said,

    August 11, 2008 at 7:47 am

    Bahut sundar keertan saagar bhai
    Aanandam…

  7. Manish Kumar said,

    August 13, 2008 at 5:54 pm

    bhai aapki post ko blog list mein ‘xyz’ kyun dikha raha hai mere blog par.

  8. अनूप शुक्ल said,

    August 15, 2008 at 2:51 pm

    अभी सुने। मजा आया।


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: