हम हारे हरकारे, सबके सब जीत गए

११ मई २००९ ०७:२३ को, GIRISH BILLORE <girishbillore@gmail.com> ने लिखा:
चिंतन घट रीत गए अपने सब मीत नए
हम हारे हरकारे, सबके सब जीत गए
*************************************
षटकोणी वार हुए, हर पल प्रहार हुए
शूल पाँव के रस्ते  हियड़े के पार  हुए
नयन हुए  पथरीले अश्रु एक भी न गिरा
वो समझे वो जीते फिर से हम हार गए
लथपथ थे मृत नहीं ,वापस सब मीत गए
हम हारे हरकारे, सबके सब जीत गए …!!
****************************************
Girish Billore Mukul


गिरीश बिल्लोरे

3 Comments

  1. mahashakti said,

    May 11, 2009 at 4:44 pm

    बहुत अच्‍छा गीत, हार कर जीतने का अंदाज ही कुछ और होता है। जीत कर तो सभी जीतते है, पर हार कर बहुत कम लोग

  2. Science Bloggers Association said,

    May 13, 2009 at 8:33 am

    बहुत ही प्यारा गीत है, दिल से निकला है और सीधे दिल में उतर जाता है।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

  3. Tara Chandra Gupta "MEDIA GURU" said,

    May 17, 2009 at 8:12 pm

    bahut khoob………sir


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: