>राखी का स्वयंवर ……रक्षाबंधन भी आ रहा है ……….

>

टेलीविजन कार्यक्रमों के कबाड़खाने में पुराना पर पैंट कर चमकाया गया एक और कचड़ा डाल दिया गया है । “स्वयंवर “राखी सावंत का एक और नया नाटक अरे राखी तुम्हे इसकी जरुरत क्यों पड़ी ,तुमसे बड़े नाटक की कल्पना कौन कर सकता है । तुम्हारे नाटक के सामने तो सेक्सपियर का किंग लियर भी बौना पड़ता है । इन्होने तो किताबों में चरित्र को जीवंत किया और बाद में बड़े परदे पर ,तुम तो जीती जागती एक अधूरी नाटक हो , जिसमे रोमियो जूलियट शिरी , फरहाद,सोनी, महिवाल ,न जाने कितनी प्रेम कथा समाहित होती है। हमारे यहाँ एक कहावत है “करनी न करतूत पलरी भर …………..इन कहावतों का कोई यथार्थ मालूम न था पर कहते है न कि समय हर कुछ समझा और बता देता है ,इस कहावत की समझ मुझे अब आई । अगर जिस्म नुमाइश ही शोहरत है तो ये तुम्ही से संभव है , तुमने जिस हथियार के इस्तेमाल से अपनी यह जगह बनाई है उसे सारा जग जानता है , रही बात तुम्हारे काम और मुकाम की वो सिमट जाता है “बुड्ढा मर गया तक”। मिका कांड से शुरुआत हुयी ,और नाच बलिये तक चला ,पर क्या यह काफी था । आखिर इंडस्ट्री को पता भी चले कि राखी का नाटक अभी बंद नही हुआ है । वो समय समय पर अपना कोई न कोई आईटम पेश करती रहेंगी। खैर जो भी सारा जग जानता है कि तुम्हे बिना कपडों के कमर मटकाने के अलावा और भी कुछ आता है ?अगर मेरी मानों तो एक सलाह दूंगा तुम एक अदाकारा तो नही बन पाई पर बेहतरीन नाटककार बन सकती हो । ये नाटक जो तुमने अभी तक पसारा है उसे जरुरत है किताबों में उतारने की खैर छोरो इन चोचलों को सुना है आजकल डिग्रिया भी बिकती है तो खरीदो और फिर कोई किताब प्रकाशित करा लो तुम्हारे साथ साथ लोगों का भी भला हो जाएगा । जितना कूड़ा फैलाना है फैलाओ । जानता का झारू चलेगा और सारा कूड़ा साफ़ । आखिर कब तक लोग गंदगी में रहेंगे । वैसे लगे रहो जब लोग इंडिया टी.वी झेल रहे है तो तुम्हे भी झेल ही लेंगे।


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: