>ठहराव

>

ठहराव

ठहराव लाने की इस जिंदगी में

बहुत की कोशिश

मैंने पर कर न पाया ऐसा कुछ

सिर्फ कोशिश ही की मैंने

इस कोशिश का अंत

न जाने कहा होगा

जाने कितना क्या पाना होगा

जाने कितना क्या खोना पड़ेगा

इस जिंदगी में उस ठहराव के लिए

मुझे क्या-क्या करना होगा.
अभिषेक कुमार सिंह

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: