>पतंग और मन की डोर

>

मानव मन की गहराइयों को थाह लेना सरल नहीं होता । नानाप्रकार की अभिलाषाओं से भरा मन जब अत्यन्त प्रफुल्लित होता है तब आदमी विविध कार्यकलापों से अपनी भावनाओं को अभिव्यक्त करता है , अपनी उत्कंठाओं की प्यास बुझाता है । ऐसा हीं एक उद्यम है -पतंगबाजी । भारतवर्ष में पतंगबाजी का शौक लोगों में किस कदर छाया है , इसका अनुमान इसी बात से लगाया जा सकता है कि विभिन्न प्रान्तों में अलग-अलग अवसरों पर पतंगबाजी का आयोजन एक प्रतिस्पर्धा के रूप में किया जाता है । इनमें से कई प्रतियोगिताएं तो विश्व स्तरपर ख्यातिप्राप्त हैं ।

जनवरी -फ़रवरी, अप्रैल -मई , जुलाई-अगस्त ये कुछ ऐसे महीने हैं जब त्योहारों की आड़ में देश का कोई न कोई हिस्सा पतंगबाजी में डूबा होता है । बरसात के इस मौसम में राजधानी दिल्ली के बाज़ार रंग-बिरंगे पतंगों से पटा पडा है । शाम होते हीं हर उम्र के लोग बच्चों से लेकर बूढे तक अपनी -अपनी छतों पर पतंगों से कलाबाजी करते नज़र आते हैं । नीला आसमान पतंगों से यूँ ढका होता है मानो बरसात से बचने के लिए हर किसी ने छतरी लगा रखी हो । दिल्ली जैसे व्यस्त शहर में लोगों को कुछ समय अपने आनंद के लिए बिताते देखना काफ़ी सुखद अहसास देता है । लाख उपभोक्तावाद आए अथवा भूमंडलीकरण हो जाए या पश्छिमी संस्कृति का बोलबाला हो हमारी जीवन शैली बिल्कुल ख़त्म नहीं होने वाली है । हम परिवर्तन से डरने वालों में से नहीं हैं बल्कि उसे स्वीकारने में विश्वास करते हैं । यहाँ कि विविधतापूर्ण संस्कृति की छाप पतंगों पर भी उकेरी होती है । एकरंगीय और बहुरंगीय कागजों से पतंग कई आकृतियों में बनाया जाता है । मसलन , चौकोर , मानवाकृति , पशु-पक्षी , चाँद -तारे , दैवीय चिन्हों आदि । लोगों के कौतुक क्रीडा के लिए प्रयुक्त होने वाला पतंग महज मस्ती का साधन नहीं रह गया है । आज पतंग एक समृद्ध कुटीर उद्योग के रूप में हजारों को रोजगार दे रहा है । बरेली , रूहेलखंड जैसे क्षेत्र पतंग और मांझे (डोर) बनाने के लिए देश भर में प्रख्यात है ।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: