>बलूचिस्तान पर मनमोहन का साझा बयान नीतिगत बचकानेपन की निशानी

>

पिछले दिनों ‘शर्म अल शेख ‘ में मनमोहन सिंह इसी ऐतिहासिक भूल की पुनरावृत्ति करते नज़र आए । पाकिस्तान की प्रधानमंत्री युसूफ रज़ा गिलानी के साथ हुई शिखर वार्ता में उन्होंने ‘बलूचिस्तान के मामले ‘को शामिल कर ‘नीतिगत बचकानेपन’ का परिचय दिया । और २६/११ के बाद वैश्विक मंच पर भारत को प्राप्त सहानुभूति और समर्थन को एक झटके में तार-तार कर दिया । साथ ही भारत के शान्ति और सौहाद्र समर्थक राष्ट्र की छवि को भी धूमिल कर दिया । आगे इस आलेख को पढ़ें http://www.janokti.com पर ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: