>एक महिला शरणार्थी के वीजा की मियाद टुकडों -टुकडों में बढ़ाई जा रही है

>

भारत सरकार ने मेहरबानी करते हुए तसलीमा का वीजा छः महीने के लिए बढा दिया है . विवादास्पद लेखिका तसलीमा नसरीन को इसी वर्ष मार्च महीने में भारत छोड़ने का फरमान जारी कर तसलीमा को किसी अज्ञात स्थान पर रखा गया था . जिसके बाद तसलीमा यूरोप चली गयी थी .एक बयान में तस्लीमा नेभारत सरकार द्वारा यहां और छह महीने रहने की अनुमति देने के लिएआभार प्रकट किया . फिलहाल , वो न्यूयॉर्क यूनीवर्सिटी में शोधार्थी के रूप में काम कर रही हैं और उनकी फेलोशिप इस साल दिसंबर में खत्म हो जाएगी।उन्होंने कहा ; मुझे न्यूयॉर्क जाना है, लेकिन मैं भारत में रहने के लिए जनवरी में वापस लौटूंगी। 47 वर्षीय लेखिका तसलीमा ने महिलाओं और हिन्दुओं पर बांग्लादेश में हो रहे लोमहर्षक अत्याचारों पर कई उपन्यास और कहानियाँ लिखी हैं । इस वजह से लेखिका को वहां से भाग कर भारत में शरण लेनी पड़ी थी लेकिन मुसीबतों ने यहाँ भी पीछा नही छोड़ा । दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में तसलीमा पर जानलेवा हमले भी किए गए । जैसे देश के बहुत-से मामलों में, वैसे ही तसलीमा नसरीन के मामले में भी भारत सरकार ने साबित कर दिया है कि वह भारत के संविधान को कुछ स्याह-सफेद पन्नों से ज्यादा नहीं समझती है। अब वीजा की मियाद मात्र छः महीने के लिए बढ़ा कर सरकार अपने कर्तव्यों से पीछा नही छुडा सकती है । एक समय इसी भारत में तसलीमा बंद जेल में रही थी ,तो हम खुली जेल में रह रहे हैं जहाँ हमारे अन्दर के मनोबल को तोड़ दिया गया है । स्थिति यह है कि हम दूसरो के अधिकारों की रक्षा के अपने मानव कर्तव्यों से डरते हैं !यह डर हमने ख़ुद पैदा की है ताकि अपनी दाल -रोटी आराम से चलती रहे ।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: