>टेलीविजन का बढ़ता दायरा और रियल्टी शो

>

टेलीविजन की लोकप्रियता का दायरा बढ़ाने में धारावाहिकों का अहम् योगदान रहा है । चाहे ‘महाभारत’ हो या ‘क्योंकि सास भी कभी बहु थी ‘ इन टीवी सीरियल्स ने न केवल सफलता पाई बल्कि सम्बंधित चैनल को भी एक नई ऊंचाई दी । गौरतलब है किटीवी के दर्शकों में सबसे बड़ी तादाद महिलाओं और बच्चों की रही है । यही वजह रही है कि अब तक ऐतिहासिक , पारिवारिक पृष्ठभूमि को लेकर ज्यादातर धारावाहिकों का निर्माण किया जाता रहा है । समय तेजी से बदला है और बदलते दौर में दर्शकों का मिजाज भी , तो भला धारावाहिक के विषय-वस्तु पर इस बदलाव का असर कैसे ना हो ? इसी बदलाव ने ‘रिअलिटी शो ‘नाम की एक नई विधा को जन्म दिया है । वैसे तो पश्चिम में इसका चलन बहुत पहले से रहा है फ़िर भी भारत में इसे नया ही कहा जाएगा । अमेरिका के लोकप्रिय रियल्टी शो ‘बिग ब्रदर’ की नक़ल करते हुए ‘बिग बॉस ‘ नाम से रियल्टी शो बनाया गया था जो दर्शकों के बीच खासा लोकप्रिय रहा । इसके बाद तो जैसे रियल्टी शो की बाढ़ सी आ गयी । नाच -गाने , स्टंट आदि को लेकर भी ढेरों कार्यक्रमों को रियल्टी के नाम पर बाज़ार में उतारा जा रहा है । जैसा कि नाम सुनकर लगता है ये रियल्टी शो सच्चाई दिखाते होंगे लेकिन होता उसका उल्टा है । रियल्टी /वास्तविकता के नाम पर जो कुछ भी परोसा जाता है उसमें हर जगह स्क्रिप्ट पर आधारित बनाबटीपन हीं नज़र आता है । साथ हीं इसमें जानबुझ कर विवाद खड़ा किया जाता है । वास्तव में इस तरह के कार्यक्रम महज टीआरपी के लिए भोंडेपन का प्रदर्शन करते हैं । उदाहरण के तौर पर ‘सच का सामना ‘ और ‘राखी का स्वयंवर ‘ अपनी प्रस्तुति के मामले में न केवल कृत्रिम हैं बल्कि अश्लील भी हैं । एमटीवी ने तो सारी सीमाएं तोड़ कर रख दी है । ‘roadies’ और ‘splittsvilla’ जैसे कार्यक्रमों में धड़ल्ले से गालियों और भद्दे शब्दों का खुलकर प्रयोग किया जा रहा है। बात यही ख़त्म नहीं होती हार -जीत के खेल में गली-गलौज से आगे बढ़कर मार-पीट के सीन देखे जा सकते हैं । इस तरह के टीवी कार्यक्रमों का सबसे बुरा असर बच्चों और किशोरों पर पड़ता है । महज लाभ और लोकप्रियता के लिए ऐसे हथकंडे अपनाना टीवी जैसे संचार माध्यमों के भविष्य के लिए और समाज के लिए भी घातक हैं ।

:- मेराज फातिमा (लेखिका जामिया में मीडिया की छात्रा हैं )

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: