साइट पर विज्ञापन/खबरें देखिये, पैसा कमाईये…

जैसा कि सभी जानते हैं हम सभी टीवी पर आने वाले विज्ञापन चाहे फ़िल्मों में हों या न्यूज़ में सभी जगह परेशान रहते हैं, जैसे ही विज्ञापन आता है, हम तत्काल चैनल बदल लेते हैं… अखबार में आये हुए पेम्फ़लेट को एक नज़र देखते भी नहीं, होर्डिंग पर भी उड़ती सी नज़र तभी पड़ती है जब ट्रेफ़िक जाम में फ़ँसे हों या कोई खूबसूरत मॉडल दिखाई दे। यह बात अब विज्ञापन कम्पनियाँ भी जान गई हैं कि लोग विज्ञापनों से उकताने लगे हैं, परेशान होने लगे हैं। जैसे-जैसे इंटरनेट का प्रसार बढ़ रहा है, अब कम्पनियाँ अपना फ़ोकस इधर शिफ़्ट कर रही हैं। नेट पर विज्ञापन दिखाना तो और भी मुश्किल है, क्योंकि कम्प्यूटर/लेपटॉप पर काम करने वाले की निगाहों का फ़ोकस अमूमन अपने काम पर ही होता है, ज्यादातर लोगों ने “पॉप-अप ब्लॉकर” चालू किये होते हैं। तब सवाल उठता है कि उपभोक्ता को विज्ञापन कैसे दिखाये जायें, जवाब मिला कि उसे विज्ञापन देखने का भी पैसा दिया जाये, तब कम से कम कुछ प्रतिशत लोग नेट पर इसी बहाने विज्ञापन देखेंगे। इसलिये आजकल “पेड-विज्ञापन” देखो वाली साईटें आ रही हैं।

कुछ दिनों पूर्व जब मैंने “ओबामा तेल” वाली पोस्ट लिखी थी, उस समय कुछ पाठकों ने मुझसे मजाक में पूछा था कि क्या यह विज्ञापन के तौर पर लिखी गई “प्रमोशनल” पोस्ट है? ज़ाहिर है कि ऐसा नहीं था, लेकिन मेरी आज की यह पोस्ट विशुद्ध रूप से एक प्रमोशनल पोस्ट है। हालांकि इस प्रकार के “आईडियाज़” देने में अवधिया जी, पाबला जी जैसे ब्लॉगर सिद्धहस्त हैं और नेट से कमाई करने में शायद अव्वल भी। मैंने कभी-कभी विज्ञापन, एडसेंस आदि से कमाई करने के बारे में विचार किया, प्रयास भी किया लेकिन आज तक सफ़लता नहीं मिली है।

हाल ही में मेरे एक मित्र ने मुझे एक वेबसाईट के बारे में बताया जिसके द्वारा उसे सिर्फ़ विज्ञापन देखने की वजह से आय हुई। ऐसी बातों पर मुझे जल्दी विश्वास नहीं होता, इसलिये मैंने उसे सबूत देने को कहा और उसने खुद सहित तीन अन्य मित्रों को कम्पनी से आया हुआ 1200/- रुपये का चेक दिखा दिया, तो ब्लॉगर मित्रों और प्रिय पाठकों, वही वेबसाईट अर्थात http://viewbestads.com/ref/MTU2ODc=aXY= और उसकी तमाम जानकारी मैं आपके लिये यहाँ पेश कर रहा हूं।

फ़ण्डा सीधा-सादा है, कि आपको इस वेबसाईट का सदस्य रजिस्टर होना है (कोई शुल्क नहीं), आपको एक कन्फ़र्मेशन मेल भेजा जायेगा तथा आपका खाता खुल जायेगा (बिलकुल मुफ़्त)। फ़िर आपको प्रतिदिन सिर्फ़ 5-6 विज्ञापन तथा 2-3 समाचार देखना है (जो कि कुल जमा 5-8 मिनट का काम है), जिसके बाद आपके खाते में कुछ अंक जमा कर दिये जायेंगे, कुछ निश्चित अंकों के होने पर एक निश्चित रकम बढ़ती जायेगी, और जैसे ही आपके खाते में 1200/- रुपये की रकम एकत्रित हो जायेगी, आपसे बैंक अकाउंट नम्बर तथा पहचान पत्र (ड्रायविंग लायसेंस, पेन कार्ड आदि) लेकर “आपके नाम से” चेक बनाया जायेगा।

हम भारत के लोग हमेशा, फ़र्जीवाड़ा कैसे किया जाये, तथा मुफ़्त में मिलने वाली चीज़ का भी अधिकाधिक फ़ायदा कैसे लिया जाये इस जुगाड़ में लगे रहते हैं। इस वेबसाइट के “विज्ञापन देखो” वाली नीति में कोई MLM वाली पद्धति नहीं है, ऐसा कोई बन्धन नहीं है कि आपको अपने नीचे डाउनलाइन में कोई सदस्य बनाना हो। इस वेबसाईट द्वारा एक व्यक्ति का (घर के पते और मेल आईडी अनुसार) एक ही रजिस्ट्रेशन किया जायेगा। ऐसे में यदि कोई व्यक्ति दो-चार फ़र्जी नामों से ईमेल आईडी देकर विज्ञापन देखता भी है तो जब पैसा लेने की बारी आयेगी तब बैंक अकाउंट क्रमांक से वह पकड़ में आ जायेगा (इसमें लोचा यह है कि यदि आपके अलग-अलग नामों से 2-3 बैंकों में खाते हों तब यह फ़र्जीवाड़ा किया जा सकता है)। इसी प्रकार एक दिन में एक आईडी से सिर्फ़ एक बार ही विज्ञापन देखे जा सकते हैं, एक बार विज्ञापन और न्यूज़ देख लेने के बाद उस पर एक टिक का निशान बन जाता है, और फ़िर आप उस मेल आईडी से अगले दिन ही विज्ञापन देख सकते हैं।

बहरहाल, आते हैं मुख्य बात पर… जब रजिस्ट्रेशन हो जायेगा और आपका प्रोफ़ाइल पूरा अपडेट हो जायेगा तब View Ads पर क्लिक करके आपको एक-एक विज्ञापन देखना है, क्लिक करने पर एक नई विण्डो खुलेगी, जिसमें कुछ सेकण्डों का समय चलता हुआ दिखेगा, उतने सेकण्ड पश्चात जब आपके खाते में अंकों के जमा होने की सूचना झलकेगी तब वह विण्डो बन्द करके नया विज्ञापन खोल लें। ऐसा दिन में एक खाते से एक बार ही किया जा सकेगा, तथा यह कुल मिलाकर सिर्फ़ 5-7 मिनट का काम है। जब आप सारे विज्ञापन और समाचार देख लें तब फ़िर अगले दिन ही आप लॉग-इन करें। सावधानी यह रखनी है कि जब तक वह विज्ञापन पूरा खत्म न हो जाये और अंक जमा होने की सूचना न आ जाये, तब तक विज्ञापन वाली विण्डो बन्द नहीं करना है, तथा एक बार में एक ही विज्ञापन की विण्डो खोलना है, एक साथ सारे विज्ञापनों की विण्डो खोलने पर आपका अकाउंट फ़्रीज़ होने की सम्भावना है। मेरे खयाल में हम लोग नेट पर जितना समय बिताते हैं उसमें से 5-7 मिनट तो आसानी से इस काम के लिये निकाले जा सकते हैं, और जब कोई शुल्क नहीं लग रहा है तब इस पर रजिस्ट्रेशन करने में क्या बुराई है। अर्थात नुकसान तो कुछ है नहीं, “यदि” हुआ तो फ़ायदा अवश्य हो सकता है।

अब आप कहेंगे कि आप ये सब क्यों लिख रहे हैं? इससे आपको क्या फ़ायदा है…बताता हूं, फ़ायदा सिर्फ़ इतना है कि जो लिंक मैं आपको दे रहा हूं, आप उस लिंक पर क्लिक करके मेरे डाउनलाइन (Referred by ID) में सदस्य बनेंगे तो कुछ अंक मेरे खाते में जुड़ जायेंगे। यदि आप चाहें तो सीधे वेबसाइट के पते पर क्लिक करके भी सदस्यता ले सकते हैं, लेकिन इससे किसी का फ़ायदा नहीं होगा, जबकि मेरे ID क्रमांक से सदस्यता लेने पर मुझे कुछ फ़ायदा हो सकता है (यह सेल्समैन टाइप की बेशर्मी भरा वक्तव्य है)। हालांकि इस स्कीम में कमाई की गति धीमी है (मैंने इस वेबसाइट पर 16 नवम्बर को रजिस्ट्रेशन करवाया है, ईमानदारी से सिर्फ़ एक आईडी से इन 15 दिनों में मेरे खाते में अभी 300 रुपये जमा हुए हैं), लेकिन मुफ़्त में मिलने वाले और रोज़ाना सिर्फ़ 5-7 मिनट का समय देने पर आपको इससे अधिक की उम्मीद भी नहीं करनी चाहिये। इसलिये विज्ञापन देखें और रोज अपने खाते में कुछ रुपये जमा करें… मुझे धन्यवाद दें और मेरे डाउनलाइन में जुड़ जायें… जब भी नेट पर बैठें, दिन में एक बार विज्ञापन देखें, खबरें पढ़ें और पैसा कमायें। एक बार भरोसा करके देखने में क्या हर्ज है, जबकि जेब से कुछ भी अतिरिक्त नहीं लग रहा।

पूरी विधि एक बार फ़िर से –

1) http://viewbestads.com/ref/MTU2ODc=aXY= इस लिंक पर क्लिक करके साइट पर पहुँचें

2) ई-मेल आईडी भरकर रजिस्टर करवायें (रजिस्टर करते समय ध्यान रखें कि Referred ID में 15687 पर टिक करें)

3) आपके मेल बाक्स में एक मेल आयेगी, उस लिंक पर क्लिक करके कन्फ़रमेशन करें।

4) अपना सही-सही प्रोफ़ाइल पूरा भरें, ताकि यदि पैसा (चेक) मिले तो आप तक ठीक पहुँचे।

5) बस, विज्ञापन देखिये और खाते में अंक और पैसा जुड़ते देखिये (दिन में एक बार)

6) अपने मित्रों को अपनी लिंक फ़ारवर्ड करें और उन्हें अपनी डाउनलिंक में सदस्य बनने के लिये प्रोत्साहित करें ताकि कुछ अंक आपके खाते में भी जुड़ें (हालांकि ऐसा कोई बन्धन नहीं है)…

मुझे लगता है, ब्लॉग से तो कुछ कमाई हो नहीं रही, अतः ऐसे तरीके आजमाने में कोई बुराई नहीं है। यदि फ़ायदा नहीं भी हुआ, तो नुकसान यकीनन नहीं होगा… रोज़ाना नेट पर काम करते-करते 5-10 मिनट अतिरिक्त निकाले जा सकते हैं।

Advertisements

27 Comments

  1. November 30, 2009 at 6:43 am

    यह एक बहुत पुराना तरीका है विज्ञापन का सुरेश जी! अंग्रेजी में ऐसे बहुत सारे साइट्स हैं। किन्तु ऐसे साइट्स प्रायः धोखा ही निकलते हैं। प्रायः ये साइट्स शुरू शुरू में कुछ लोगों को चेक भेज कर लोगों का विश्वास प्राप्त कर लेते हैं और एक बार विश्वास प्राप्त कर लेने के बाद कभी भी भुगतान नहीं करते, हाँ विज्ञापन दाताओं से अपने पैसे अवश्य वसूल कर लेते हैं। कुछ समय बाद जब सदस्यों को भुगतान नहीं मिलता तो इनकी लोकप्रियता कम हो जाती है और इन्हें विज्ञापन मिलने बंद हो जाते हैं तब यह साइट बंद कर के रफूचक्कर हो जाते हैं।ऐसा नहीं है कि इस प्रकार के सभी साइट्स धोखाधड़ी करते हैं, कुछ साइटें सच्ची भी होती हैं किन्तु सच्ची साइटें लाखों में एक ही होती हैं याने कि सच्ची साइटों की संख्या नगण्य है।मैंने यह टिप्पणी इसलिये की है कि लोग विज्ञापन देखने में अपना बहुमूल्य समय बरबाद करने के पहले सावधान रहें।

  2. November 30, 2009 at 6:54 am

    आदरणीय अवधिया जी,मुझे भी कभी भरोसा तो नहीं हुआ ऐसी साईटों पर, लेकिन चूंकि यह साईट भारतीय है तो सोचा कि इस पर रजिस्टर करवाकर देख लेते हैं…। फ़िर अधिक समय भी नहीं देना है, अपना काम करते-करते इसे देखा जा सकता है। कुछ समय बाद देखेंगे कि खाते में पैसा जमा होता है या नहीं तथा फ़िर चेक आता है या नहीं। यदि नहीं आया तब इसके खिलाफ़ भी एक पोस्ट लिखकर इसे रगड़ेंगे…। अपनी जेब से क्या जा रहा है? इसलिये ट्राय करने में कोई हर्ज नहीं है…।

  3. November 30, 2009 at 7:22 am

    हम भी ज्वाइन कर ही लेते हैं. कुछ मिला तो ठीक, नहीं तो कोई बात नहीं………….

  4. November 30, 2009 at 7:38 am

    वैसे ट्राई करने में हर्ज ही क्या है?

  5. November 30, 2009 at 8:05 am

    हा-हा-हा- सुरेश जी आपके ब्लॉग पर दिए गए लिंक को इतने लोग तरी कर रहे है कि साईट ही जबाब दे गई तीन बार ट्राई मार चुका !

  6. November 30, 2009 at 8:56 am

    मुझे लगता है, ब्लॉग से तो कुछ कमाई हो नहीं रही, अतः ऐसे तरीके आजमाने में कोई बुराई नहीं है। मेरे भी ऐसे ही विचार है. कोशिश करते रहना है. लिंक के लिए आभार.

  7. November 30, 2009 at 9:23 am

    आप सच कह रहे हैं…..ऐसे तरीके आजमाने में कोई बुराई नहीं है।

  8. November 30, 2009 at 11:08 am

    कोई बुराई नहीं । बिलकुल आजमाते हैं ।

  9. Common Hindu said,

    November 30, 2009 at 11:39 am

    good idea

  10. SP Dubey said,

    November 30, 2009 at 12:02 pm

    क्या भरत से बहर अन्य देश से भी यह साइट अनुमति देता है यह सिर्फ़ आपको लाभ पहुचे इसलिए क्रिपया बताएध्न्यवाद

  11. November 30, 2009 at 12:33 pm

    सुरेश जी ! कोई हर्ज नहीं !हम आपके रिफरल से ही रजिस्टर होंगे ….हमें हो या आपको फायदा होना चाहिए !jyada hua to ek paarty le lenge !!

  12. November 30, 2009 at 2:21 pm

    'मनी' के लिए साला कुछ भी करेगा बस 'मनी' को आना मांगता 🙂 भाईयों लगे रहो "आल दी बेस्ट"

  13. November 30, 2009 at 2:27 pm

    Best of Luch Suresh JiAgar 1 Sal Mai 3-4$ ho Jaye to Mujhe Bhi Bataiye Ga.Mai Isai Pahle Try Kar Chuka Hoo.

  14. ashoke mehta said,

    November 30, 2009 at 2:35 pm

    गोदियाल जी ने ठीक कहा लगता है, इतने ज्यादा लोग ट्राई कर रहे हैं कि ये साईट ही जवाब दे गई है

  15. November 30, 2009 at 3:43 pm

    इस तरह की बहुत सी साइट है इन्ट्र्नेट पर……कुछ वेबसाईट आपके मेल एड्रेस पर इश्तिहार ई मेल करती है………..

  16. December 1, 2009 at 2:57 am

    सुरेशजी, हमने भी खाता बना लिया है अब देखते हैं कि क्या होता है, कुछ इस तरह की चीजें लायें सब लोग कहीं न कहीं से तो कुछ बात बने।

  17. December 1, 2009 at 3:49 am

    बहुत पहले ऐसी कोई साईट ज्‍वाइन किया था, मजा नही आया छोड़ दिया 😦 फिर ट्राई करके देखते है 🙂

  18. December 1, 2009 at 6:15 am

    कभी कभी कमाई के बारे में सोचना और सूचना देना अच्छा ही है …!!

  19. December 1, 2009 at 7:18 am

    सुरेश जी नमस्ते,ब्लाग्स को जानकारी और जागरण के तरीके के लिए प्रयोग करना अच्छा है.इसको समय बर्बादी का जरिया न बनाएं.

  20. December 1, 2009 at 1:34 pm

    सुरेश जी, आपके नीचे सदस्य तो हम भी बन गये हैं। विज्ञापन देने वाली कंपनियों का स्टैंडर्ड देखकर लग तो रहा है कि यह साइट विश्वसनीय रहेगी।

  21. दहाड़ said,

    December 1, 2009 at 4:36 pm

    खाता नम्बर एवं आइ डी प्रूफ़ देते समय सचेत रहेंजहां तक हो सके खाता नं एसा देवे जिसमे कम ही बेलेंस रह्ता हो.नेट बैंकिग से कई फ़्राड हो रहे है आज कल

  22. December 3, 2009 at 8:08 am

    "मुझे लगता है, ब्लॉग से तो कुछ कमाई हो नहीं रही, अतः ऐसे तरीके आजमाने में कोई बुराई नहीं है। यदि फ़ायदा नहीं भी हुआ, तो नुकसान यकीनन नहीं होगा… रोज़ाना नेट पर काम करते-करते 5-10 मिनट अतिरिक्त निकाले जा सकते हैं।"मान लिया! आपकी डाऊनलाई में जुड लेते हैं.सस्नेह — शास्त्रीहिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती हैhttp://www.IndianCoins.Org

  23. shashwat said,

    December 29, 2009 at 10:48 am

    सुरेशजी,आपकी http://www.viewbestads.com/public/user/add/ref/15687 साईट पर रजिस्टर होने पर बताया जा रहा है कि this site is currently under maintenance.विज्ञापन देखने के लिए क्या करना होता है, जानकारी दें.

  24. shashwat said,

    December 29, 2009 at 10:48 am

    सुरेशजी,आपकी http://www.viewbestads.com/public/user/add/ref/15687 साईट पर रजिस्टर होने पर बताया जा रहा है कि this site is currently under maintenance.विज्ञापन देखने के लिए क्या करना होता है, जानकारी दें.

  25. December 29, 2009 at 11:04 am

    मेरे रिफरल लिंक से तो खुल रही है साईट …वह भी धडल्ले से !!

  26. January 11, 2010 at 7:13 am

    आदरणीय सुरेश जी१ जनवरी से रूपये २० का भुगतान बंद हो गया है कहते हैं वो तो प्रोमो ऑफर था क्या अब भी यह इतना आकर्षक रह गया है ? आपके विचार जानना चाहते हैं ?

  27. IRENE said,

    February 5, 2010 at 4:44 pm

    I would like to share a great innovative idea which I have come across, Just imagine if we start getting rewards for viewing 30 seconds some ads of our interest in our free time and Earn extra money online from home. We don't have to pay any thing to get rewarded but can get gifts worth thousands per day! This is unbelievable but true. This site has tied up with world's renowned brands and now we all will be rewarded for viewing ads of such brands. If you have 1 minute time now, please click below mention link and signup now as any one who joins after you through my reference or my friends references will be your team member and you would be benefitted by it forever. (If you interested, Please use [1539] as a Referral ID)Visit:http://www.viewbestads.com/public/index/index/ref/MTUzOQ==aXY=


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: