>अब तू वापस नहीं आयेगा ?

>तू चला गया ,अब वापस नहीं आएगा

हमें याद तेरी आएगी ,

पर अब शायद तू नहीं आएगा ,

तूने हमें सिखाया ,

कैसे जीते है

कैसे गमों में भी मुस्कुराते है ,

कैसे हर मुसीबत को हँस कर टाल देते हैं ,

दुश्मनो को भी कैसे

दोस्त बनाते हैं ,

हर मोड़ पर कैसे अपनों का साथ निभाते है ,

पर अब तो तू ही छोड़ गया

हमें इस मझधार में

अब कैसे पार होगी हमारी

नैया इस भंवर से ,

कौन दिखाएगा हमें रास्ता

कैसे जायेंगे हम सही राह पर

कौन बताएगा हमें इस

दुनिया की रीति ,

कैसे समझ पाएंगे हम

कठिन से कठिन नीति .

तुम थे तो सब आसान लगता था ,

अब तो तुम ही नहीं हो ,

अब हर कुछ एक बोझ सा लगने लगा है ,

पर अब इनसब बातो का मतलब ही क्या ?

अब तो तू ही चला गया ,हमें छोड़ के

अब तू वापस नहीं आएगा

वापस नहीं आएगा |

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: