>गीतिका: भुज पाशों में कसता क्या है? –संजीव ‘सलिल

>गीतिका

संजीव ‘सलिल’

भुज पाशों में कसता क्या है?
अंतर्मन में बसता क्या है?

जितना चाहा फेंक निकालूँ
उतना भीतर धँसता क्या है?

ऊपर से तो ठीक-ठाक है
भीतर-भीतर रिसता क्या है?

दिल ही दिल में रो लेता है.
फिर होठों से हँसता क्या है?

दाने हुए नसीब न जिनको
उनके घर में पिसता क्या है?

‘सलिल’ न पाई खलिश अगर तो
क्यों है मौन?, सिसकता क्या है?

*************************

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: