>योगदान हेतु

>

नमस्‍कार महोदय

पिछले कई महीनों से ब्‍लाग जगत पर संस्‍कृत के उत्‍थान के लिये पूरी तरह से समर्पित होने पर भी संस्‍कृत का कोई विशेष प्रभाव नहीं दिखा ।
अत: संस्‍कृत के शीघ्र और सम्‍यक प्रचार और प्रसार के लिये मैंने एक युक्ति सोंची है ।
मुझे आशा नहीं अपितु प्रबल विश्‍वास है कि हमारे इस प्रयास से संस्‍कृत अति द्रुत गति से ब्‍लाग जगत पर प्रसार को प्राप्‍त होगी ।
यह प्रस्‍ताव आप के समक्ष रखना चाहता हूँ , हो सके तो इसमें योगदान करके संस्‍कृत के प्रसार में सहयोग दें ।

हॉंलांकि ब्‍लाग जगत पर प्रत्‍येक लेखक के पास समय की कमी है,
वो अपना समय फालतू जाया नहीं कर सकता अत: मैं ऐसा कोई दुराग्रह नहीं करने जा रहा हूँ ।
मैं आपसे केवल वही निवेदन करूँगा जिसमें आपका समय के नाम पर पूरे एक सप्‍ताह में कहीं दो मिनेट लगेगा ।
संस्‍कृत भाषा के प्रसार के लिये हम अपना इतना समय तो दे ही सकते हैं ।

प्रस्‍ताव यह है
कि आप सभी संस्‍कृतम्-भारतस्‍य जीवनम् ब्‍लाग के लेखक बनें ।
आपको अधिक कुछ नहीं करना होगा ।
हम सभी को कुछ न कुछ श्‍लोक याद जरूर होते हैं ,
हर व्‍यक्ति जो संस्‍कृत चाहे बोल पाता हो या नहीं किन्‍तु संस्‍कृत के दो चार श्‍लोक अपने दैनिक पूजा में ही प्रयोग कर जाता है ।
आपको करना बस यह है कि सप्‍ताह या दो सप्‍ताह में केवल एक श्‍लोक मात्र संस्कृत में लिख कर इस ब्‍लाग पर पोस्‍ट करना है ।
इससे संस्‍कृत के लेख ब्‍लाग जगत पर अनवरत दिखने लगेंगे साथ ही आप को न कोई खास मेहनत करनी पडेगी और न ही अधिक समय देना पडेगा ।

मैं आपको ब्‍लाग लेखन के लिये आमन्‍त्रण का लिंक भेज रहा हूँ
कृपया मेरा ये अनुरोध अवश्‍य स्‍वीकार करें
मेरे लिये न सही, अपनी संस्‍कृत भाषा के लिये आपसे इतना सा निवेदन कर रहा हूँ ।
आशा है आप न नहीं करेंगे ।

आपका –
आनन्‍द
(संग्राहक प्रमुख)
(संस्‍कृतम्-भारतस्‍य जीवनम्)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: