>बच्चे जब आपके बाप बन जाएँ तो उनका सम्मान करें

>
खुशी मनाने के कुछ बिन्दु

1- आपके परिवार के बेटे-बेटी मानने लगें कि उनका जन्म आपके परिवार की अभिलाषा नहीं वरन् उन बच्चों के माता-पिता के शारीरिक सुखों की परिणति है।

2- आपके बच्चे मानते हों कि आपने उनके लिए कभी कुछ किया ही नहीं जो कुछ किया है वो इस कारण से क्योंकि आपने अपने शारीरिक सुखों के एवज में उनको पैदा करने का अपराध जो किया था।

3- इस अपराध की सजा के रूप में आपने अपने बच्चों की परवरिश की।

4- खुशी मनाइये कि आपके बच्चे अब आपका कहा हुआ बिलकुल भी नहीं मानते।

5- आपका कुछ भी कहना उनके ऊपर तानाशाही दिखाने जैसा लगने के कारण वे अब घर से बाहर रहना शुरू कर रहे हैं।

6- जलसा मनाइये कि आपके बच्चे अब खुल्लमखुल्ला अपने विपरीतलिंगियों के साथ दिन गुजारने के साथ-साथ रातें भी गुजार रहे हैं।

7- यह आपके लिए खुशी की बात है कि इतनी उम्र के बाद भी आपकी बेटी गर्भवती नहीं हुई है और न ही किसी लड़की ने आकर आपके बेटे से कहा है कि मैं तुम्हारे बच्चे की माँ बनने वाली हूँ, अर्थात दोनों सुरक्षित साधनों का प्रयोग कर रहे हैं।

8- खुशी अब मनाइये कि आपके बच्चों ने आपको दादा-नाना बनाने वाली खुबर सुना दी, वह भी बिना शादी किये। इसका मतलब है कि आपके बच्चे उतने पिछड़े नहीं जितना कि मुहल्ले वाले समझ रहे थे।

9- यह क्या कम खुशी की बात है कि आपके मना करने की स्थिति में आपके बच्चे घर से भाग सकते हैं। आप उनके भागने का नहीं उनके किसी भी ऐरे-गैरे से शादी करने का इंतजाम करिये।

10- खुश होइये कि आपके ऊपर यह दोष नहीं आयेगा कि आपने अपनी बेटी को किसके पल्ले बाँध दिया अथवा बेटे के पल्ले किसको बाँध दिया।

11- यह तो बहुत खुशी की बात है कि आपकी बेटी ने ऐसे व्यक्ति को अपना जीवनसाथी चुना है जो लगातार अपराध की दुनिया से जुड़ा रहा। आखिर आप ऐसा दामाद खोज सकते थे?

12- यह भी खुश होने वाली खबर है कि आपका बेटा अब तक कइयों लड़कियों को झाँसा देकर गर्भवती बनाता रहा और अब तो शादी कर ही बैठा किसी शादीशुदा महिला से, उसको भगा कर।

———————————-

खुश
होने के और भी बिन्दु हैं पर कृपया खुशी में ऑनर किलिंग जैसी हरकत नहीं कीजिए। आप स्वयं विचार करके देखें कि आपको इतनी इज्जत और कौन देगा? आपके बेटे और बेटी ही यदि इस तरह की इज्जत नहीं देंगे तो क्या समाज देगा? आप अपने बेटे और बेटी का बस यहीं तक अच्छा सोच सकते थे, इसके बाद तो सोचना उनका काम है कि किस लड़के अथवा लड़की के साथ वो सुखी रहेंगे।

आप क्यों बिलावजह अपने आदेश को पारित करने का प्रयास करते हैं। याद रखिये एक उम्र के बाद आपके बेटे और बेटियाँ आपके बाप हो जाते हैं। इस अवस्था में आपको अपने इन दत्तक बापों का आदर करना चाहिए।

ऐसे बेटे और बेटियों को ससम्मान समाज में प्रतिष्ठित करो जो अपने माता-पिता की गरिमा, उनकी भावनाओं का आदर नहीं कर सकते हैं।

———————————

(चित्र गूगल छवियों से साभार)

सन्देश—
ऊपर के संदेश का सार समझें और आइये समाज हित में किसी भी तरह की हिंसा को, किलिंग (जो कम से कम ऑनर जैसी तो नहीं है) को बन्द करें।

Advertisements

>बी टी बेंगन व भारत —

>

बी टी बेंगन– विविध तर्क व व्याख्याएं —

एक तरफ हरित क्रान्ति के जनक जैव विशेषग्य बी टी बैंगन को हानिकारक कह रहे हैं तो दूसरी ओर किरण मजूमदार जैसे बिज़नेस बाले लोगभावनात्मक नहीं तर्क पूर्ण विवेचना हो के माध्यम से बायोटेक को झटका, रिसर्च प्रभावित होना, अवैज्ञानिक तौर तरीके के बहाने सकी पक्षदारी कर रहे हैं।
वस्तुतः बिजेनेस वाले एसे लोग न तो विज्ञान को समझते हैं न सामाजिकता को ,भावना को, वे सिर्फ धंधे को समझते हैं, येन केन प्रकारेण–व्यवसाय बस।परम्परागत या भारतीय विज्ञान को ये लोग अवैज्ञानिक मानते है –अंग्रेज़ी व विदेशी एवं कमाई के चश्मे के कारण |वस्तुतः विज्ञान सिर्फ तर्क पर चलता है, व धंधा बाज़ार पर। पर जहां मानव व जीव की बात आती है वहां भावना आधारित तर्क पर विवेचना होनी चाहिए । सिर्फ तर्क केवल कुतर्क होता है । विज्ञान या तर्क -मानव के लिए हैं नाकि मानव -विज्ञान या तर्क के लिए । अतः भावनात्मक तर्क पूर्ण विवेचना होनी चाहिए प्रत्येक बिंदु की । जैव विशेषग्य व कृषि विशेषज्ञों के अनुसार यह प्रतीत होता है कि —
—१.महंगे विदेशी बीज के लिए किसानों को अपना बहुत सा धन खर्च करना होगा , अपना देशी बीज व्यर्थ होजाएंगे। देशी प्रजातियाँ भी कालान्तर में नष्ट होकर हम पूर्णतः विदेशों पर आश्रित होंगे। जो वही स्थिति है जब ईस्ट इंडिया कंपनी के ब्रिटिशबुनाई की मशीनों के कारण भारतीय जुलाहों घरेलू उद्योग की हुई थी
—२। धन के लालच में एक ही फसल के बहु उत्पादन से अन्य फसलें चौपट होंगी , कीट-पक्षी-पशु जगत , वनस्पति जगत पर दुष्प्रभाव से ईकोलोजी प्रभावित होगी |
—३। और संवर्धन के लिए विदेशी तकनीक, विदेशी यंत्र, विदेशी मुद्रा के लिए देशी धन का उपयोग –>महंगाई??
हमें होशियार रहना होगा