हम हारे हरकारे, सबके सब जीत गए

११ मई २००९ ०७:२३ को, GIRISH BILLORE <girishbillore@gmail.com> ने लिखा:

चिंतन घट रीत गए अपने सब मीत नए
हम हारे हरकारे, सबके सब जीत गए
*************************************
षटकोणी वार हुए, हर पल प्रहार हुए
शूल पाँव के रस्ते  हियड़े के पार  हुए
नयन हुए  पथरीले अश्रु एक भी न गिरा
वो समझे वो जीते फिर से हम हार गए
लथपथ थे मृत नहीं ,वापस सब मीत गए
हम हारे हरकारे, सबके सब जीत गए …!!
****************************************
Girish Billore Mukul


गिरीश बिल्लोरे