>दोहे आँख के… संजीव ‘सलिल’

>दोहे आँख के…

संजीव ‘सलिल’

कही कहानी आँख की, मिला आँख से आँख.
आँख दिखाकर आँख को, बढ़ी आँख की साख..

आँख-आँख में डूबकर, बसी आँख में मौन.
आँख-आँख से लड़ पड़ी, कहो जयी है कौन?

आँख फूटती तो नहीं, आँख कर सके बात.
तारा बन जा आँख का, ‘सलिल’ मिली सौगात..

कौन किरकिरी आँख की, उसकी ऑंखें फोड़.
मिटा तुरत आतंक दो, नहीं शांति का तोड़..

आँख झुकाकर लाज से, गयी सानिया पाक.
आँख झपक बिजली गिरा, करे कलेजा चाक..

आँख न खटके आँख में, करो न आँखें लाल.
‘सलिल न काँटा आँख का, तुम से करे सवाल..

आँख न खुलकर खुल रही, ‘सलिल’ आँख है बंद.
आँख अबोले बोलती, सुनो सृजन के छंद..

***********

Advertisements